Google+ Followers

Monday, 25 June 2018

597 इमानदारी (Imaandari)

कहां गई  इमानदारी तुम्हारी।
क्यों दिया साथ इसका, तूने छोड़।
 क्यों पड़ गई इसकी डोर ,इतनी कमजोर।

थाम ले ,एक बार फिर इमानदारी का हाथ।
पकड़ ले कसकर ,तू इस की डोर।
वरना बिगड़ जाएगी, जिंदगी की बागडोर।

 चलता रह, हाथ पकड़ इमानदारी का।
बेईमानी जब खींचे तुझे अपनी ओर।
और कस कर पकड़  लेना तू इस की डोर।

 कदम बड़ा और आगे बढ़ता जा।
 देखना ना अब तू पीछे की ओर।
खुद का जीवन बस तू इससे दे जोड़।
597 2.55pm 25June 2018

Kahan gayi imaandari Tumhari.
 Kyun Diya Saath Iske Tumne chhor.
Kya pad gayi iski dor Itni kamzor.

Tham Le Ek Baar Phir imandari ka haath.
Pakad Le kass kar tu iski dor.
Varna Bigad Jayegi Zindagi Ki Baagdor.

Chalta Reh Hath pakad ,imaandari ka.
Beimaani Jab kheenche Tujhe apni aur.
Aor  kas kar pakad lena to iski door.

Kadam Bada aur aage badhta Ja.
Dekhna na ab tu Piche ki aur.
 Khud ka jeevan Bas Isse De Jod.

Sunday, 24 June 2018

596 रिश्तो की डोर (Rishton ki Dor)

रिश्तो की डोर, हो गई है इतनी कमजोर।
जिसका बस चलता है, देता है  तोड़।

आज आदमी को आदमी से प्यार नहीं।
 ना देखा ऐसा घर जहां होती तकरार नहीं।
प्यार भावना हो गई है इतनी कमजोर।
जिसका बस चलता है, देता है दिल को तोड़।

सब चाहते हैं ,हो अपनी भावनाओं की कदर।
नहीं चाहते, दूसरों की कदर करें मगर।
 ऐसे यूं कैसे चल पाएगी जीवन की डोर।
 आज रिश्तो की डोर हो गई है इतनी कमजोर।

संभल जा ए इंसान वक्त बीता जाता है।
करता नहीं कदर फिर पीछे पछताता है।
संभाल वक्त को ,बदल जाए ना कहीं यह दौर।
 आज रिश्तो की डोर हो गई है इतनी कमजोर।
596 5.06pm 24 june 2018 Sunday



Rishton Ki Dor, ho gayi hai Itni kamjor.
Jiska bas chalta hai, Deta Hai Tod.

Aaj Aadmi ko Aadmi Se Pyar Nahi.
Na deKa Aisa ghar Jahan hoti taqrar nahi.
 Pyar Bhavna ho gayi hai Itni kamzor.
 Jiska bas chalta hai Deta Hai Dil Ko Tod.

Sab chahte hain ,Ho apni Bhavnaon ki Kadar.
Nahi Chahte dusron ki Kadar, Karein Magar.
 Aise yun Kaise chal Paegi Jeevan Ki Dor.
Aaj Rishton Ki Dor ho gayi hai Itni kamjor.


Sambhal Jaa e Insaan Waqt beeta jata hai.
 Karta Nahi Kadar, Phir Piche Pachtata Hai.
Sambhal Waqt ko badal jaye na ,Kahi ye daur.
 Aaj Rishton ki Dor, ho gayi hai Itni kamzor.

Saturday, 23 June 2018

595 मेरा प्यारा सा दिलबर (Mera Pyaara Sa Dilbar)

कहीं दूर बैठा मेरा प्यारा सा दिलबर।
आंखों में सपने ,हसीन वो ले कर।
मेरे सपने मन ही मन में सजा कर।
उन्हें पूरे करने की, चाहत को लेकर।
बंद आंखें कर के बैठा वो होगा।
मगन मेरे ख्यालों मे, और कुछ न सोचा।

ख्याल ले जाते होंगे उसे ,न जाने कहां पर।
सोचता होगा मैं पास हूं उसके वहां पर।
 बातें वो करता होगा खुद ही से ,प्यारी-प्यारी।
ये चाहता होगा सुनना, कि  मैं हूं तुम्हारी।
बंद आंखें कर के बैठा वो होगा।
मग्न मेरे ख्यालों में, और कुछ न सोचा।

कभी उठ कर चलता होगा ख्यालों में खोया।
 कभी हंसता होगा, कभी होगा रोया।
मेरी एक झलक को पाने को दिलबर।
रहा होगा हरदम इसी धुन में खोया।
बंद आंखें कर के बैठा वो होगा।
मग्न मेरे ख्यालों में ,और कुछ न सोचा।
595 12.54pm 23June 2018



Kahin Door Baitha mera pyara Sa Dilbar.
Aankhon Mein Sapne Haseen Ho Lekar.
Mere Sapne man hi man Mein Saja kar.
Unhain pure Karne Ki Chahat ko Lekar.
Band Aankhain Kar Ke Baitha Vo hoga.
Magan Mere Khayalon Mein Aur kuch na Socha.

Khayal Le Jaate Honge Usse,Na Jane Kaha par.
Sochta Hoga main Paas Hoon Uske, wahan par.
 Baate wo karta hoga Khud Hi Se ,Pyari Pyari.
Ye chaahta Hoga Sunna ,Ki Main Hoon Tumhari.
Band Aankhain Kar Ke Baitha Vo hoga.
Magan Mere Khayalon Mein, Aur kuch na Socha.

Kabhi uth kar chalta Hoga Khayalon Mein Khoya.
Kabhi Hasta Hoga, Kabhi Hoga roya.
Meri ek Zhalak Pane ko Dilbar.
Raha Hoga har dam Isi Dhun Main khoya.
Band Aankhen Kar Ke Baitha Vo hoga.
Magan Mere Khayalon Mein Aur kuch na Socha.
Kahin door.......
Aankhon Mein......

Friday, 22 June 2018

594 खूबसूरत धरती (Khubsurat Dharti.)

तुम्हें मिली है इतनी खूबसूरत धरती।
 शायद तुम्हें इसका एहसास नहीं।
जो रखते तपती रेत पर पांव तुम।
तभी होता, तुम्हें इसका ज्ञान सही।

कीमत पहचानो अपने उपहारों की।
ना पहचान सको ,तुम ऐसे तुम नादान नहीं।
 संभालो इसको तुम ,यह आने वालों की धरोहर है।
जो ना संभालो ,तो तुम इसके हकदार नहीं।

अगर तुम्हें मिली है विरासत अच्छी।
 आगे इसे सुरक्षित देना भी तुम्हारा कर्तव्य है।
जो ना तुम आगे दे पाए इसे सुरक्षित।
 तो आज फिर ,इस पर तुम्हारा अधिकार नहीं।
594 4.48pm 20june 2018
Tumhe Mili Hai Itni Khubsurat Dharti.
Shayad Tumhe iska Ehsaas nahi.
 Jo rakhte tapti ret papr Panv Tum.
 Tabhi Hota Tumhe iska Gyan Sahi.

 Keemat Pehchano Apne Uparon ki.
Na Pehchan sako, Aise Tum Nadan nahi.
 Sambhalo isko Tum, Ye Aane Walo Ki dharohar Hai.
Jo nah Sambhalo toh ,tum Iske haqdaar nahi.

Agar Tumhain  Mili Hai Virasat acchi.
Aage ise surakshate Dena bhi Tumhara kartavye hai.
Jo Na Tum Aagaye dey Paye Ise surakshit.
 Tu Aaj Phir iss par ,Tumhara Adhikar nahin.

Thursday, 21 June 2018

593 वादा तोड़ना नहीं ( Wada Todna nahi)

थाम लो बाहों को मेरी ,साथ मेरा छोड़ना नहीं।
कट जाएगी जिंदगी यूं ही चैन से, वादा तोड़ना नहीं।

 बांधा है एक दूजे के साथ हमें एक डोर से।
संभल कर चलना, धागा ये कच्चा तोड़ना नहीं।

एक दूजे के सहारे यह सफर आसान रहेगा।
 नजर एक दूजे पर रखना ,कभी मुंह मोड़ना नहीं।

जमाना तो कहता ही रहेगा कुछ ना कुछ।
 रखना विश्वास एक दूसरे का ,भरोसा कभी तोड़ना नहीं।

थाम लो बाहों को मेरी ,साथ मेरा छोड़ना नहीं।
कट जाएगी जिंदगी यूं ही चैन से, वादा तोड़ना नहीं।
593 3.06pm 20 June 2018

Thaam Lo Bahon ko meri ,Saath Kabhi Mera Chodna nahi.
 Kat Jayegi Zindagi Yuhi chain se, Wada Todna nahi.

Bandha Hai Ek Duje Ke Saath Hume, Ek dor se.
Sambhal kar Chalna, Dhaga ye  Kachha Todna nahi.

Ek Duje Ke Sahare ye safar Aasan rahega .
Nazar Ek Duje pe Rakhna, Kabhi Muh  Modna nahi .

Zamana To Kehta Hi Rahega kuch na kuch .
Rakhna Vishwas Ek Doosre ka, Bharosa Kabhi Chhodna nahi

Thaam Lo Bahon ko meri ,Saath Kabhi Mera Chodna nahi.
 Kat Jayegi Zindagi Yuhi chain se, Wada Todna nahi.

Wednesday, 20 June 2018

592 प्यास अभी बाकी है (Payaas Abhi Baki Hai.)

 तू ही मयखाना मेरा, तू ही मेरा साकी है।
पिला दे ए साकी मेरे, प्यास अभी बाकी है।

कर गीला मेरे होठों को मेरे साकी,
सूखे लबों पर, तेरा नाम अभी बाकी है।

तरस रहा हूंँ प्यार में ,तेरे इंतजार में।
आ अब तो, तेरा दीदार अभी बाकी है।

जाम ए उल्फत बहुत पिए मैंने।
तेरी आंखों से जाम पीना अभी बाकी है।

तेरी उल्फत में डूबा रहा मैं अब तलक।
 तेरी आंखों में डूबना अभी बाकी है।

कर गीला मेरे होठों को मेरे साकी।
सूखे लबों पर तेरा नाम अभी बाकी है।
592  20 June 2018

Tu Hi Meykhana Mera, Tu Hi Mera Saki hai.
 Pila De e Saki mere ,Payaas Abhi Baki Hai.

Kar Geela Mere Hoton Ko Mere Saaki.
Sukhe Labo pe Tera Naam Abhi Baki Hai.

 Taras Raha Hoon Pyar Mein ,Tere Intezaar mein.
Aa Ab Tou, Tera Deedar Abhi Baki Hai.

Jam e Ulfat bahut Piye maine.
 Teri Aankhon Se ,Jaam Peena Abhi Baki Hai.

Teri Ulfat mein dooba Raha Mein Ab Talak.
 Teri Aankhon Mein Doobna Abhi Baki Hai.

Kar Gila Meri Ankhon Ko Mere Saaki.
Sukhe Labo pe Tera Naam Abhi Baki Hai.

Tuesday, 19 June 2018

591 धरती पर जीवन Dharti Par Jivan)

खेल खेल लो तुम जिंदगी का।
 जीत हार का फैसला छोड़ दो।
जो चले जिंदगी ,गम की ओर।
 राह उसकी, खुशी की ओर मोड़ दो।

छोटा बड़ा, अमीर  गरीब होता रहेगा।
 सब छोड़-छाड़ ,ईश्वर से नाता जोड़ लो।
क्या कहता है, क्या सुनता है, कोई।
इन सब बातों से अपना नाता तोड़ लो।

आ ही गए हैं ,जब इस जहां में तो,
 यहां की खुशियों से नाता जोड़ लो।
तुम्हें मिला है इतना सुंदर जीवन और धरती।
 इसे और सुंदर बनाने का प्रण जीवन में जोड़ लो

खो जाओ इसके शृंगार में तुम।
इसी से प्रीत अपनी जोड़ दो।
तुम लगे रहो बस अपनी ही धुन में।
 जो ना माने बात तुम्हारी ,उसका पीछा छोड़ दो।
591 11am 19June 2018


Khel Khel Lo, Tum Zindagi Ka.
 Jeet Haar Ka Faisla Chod Do.
Jo Chale Zindagi Gam ki aur.
 Rah Uski Khushi ki aur Mod do.

 Chhota Bada, Amir Garib Hota rahega.
Sab Chhod Chhad, Ishwar Se Nata jodlo.
Kya Kehta Hai, Kya Sunta Hai, Koi,
 In Sab Baaton Se Apna Nata Tod lo.

Aahi Gaye Hain Jab is Jahan Mein Tuo.
Yahan Ki Khushiyon Se Nata jodlo.
Tumhe Mili Hai Itni Sundar Dharti.
Isi Aur Sundar banane ka Pran Jeevan Mein Jod lo.

Kho Jao Iske shingar Mein Tum.
Iisi Se Preet apni Jod lo.
Tum lage raho bas apni hi Dhun Mein.
 Jo Na Mane Baat Tumhari ,uska peecha Chod Do.